सुनो रे भाई राम कहानी


तुलसीदास जी के अनुसार सर्वप्रथम श्री राम की कथा भगवान श्री शंकर ने माता पार्वती जी को सुनाया था। जहाँ पर भगवान शंकर पार्वती जी को भगवान श्री राम की कथा सुना रहे थे वहाँ कागा (कौवा) का एक घोसला था और उसके भीतर बैठा कागा भी उस कथा को सुन रहा था। कथा पूरी होने के पहले ही माता पार्वती को ऊँघ आ गई पर उस पक्षी ने पूरी कथा सुन ली। उसी पक्षी का पुनर्जन्म काकभुशुण्डि[घ] के रूप में हुआ। काकभुशुण्डि जी ने यह कथा गरुड़ जी को सुनाई। भगवान श्री शंकर के मुख से निकली श्रीराम की यह पवित्र कथा अध्यात्म रामायण के नाम से प्रख्यात है। अध्यात्म रामायण को ही विश्व का सर्वप्रथम रामायण माना जाता है।
हृदय परिवर्तन हो जाने के कारण एक दस्यु से ऋषि बन जाने तथा ज्ञानप्राप्ति के बाद
वाल्मीकि ने भगवान श्री राम के इसी वृतान्त को पुनः श्लोकबद्ध किया। महर्षि वाल्मीकि के द्वारा श्लोकबद्ध भगवान श्री राम की कथा को वाल्मीकि रामायण के नाम से जाना जाता है। वाल्मीकि को आदिकवि कहा जाता है तथा वाल्मीकि रामायण को आदि रामायण के नाम से भी जाना जाता है।
देश में विदेशियों की सत्ता हो जाने के बाद देव भाषा
संस्कृत का ह्रास हो गया और भारतीय लोग उचित ज्ञान के अभाव तथा विदेशी सत्ता के प्रभाव के कारण अपनी ही संस्कृति को भूलने लग गये। ऐसी स्थिति को अत्यन्त विकट जानकर जनजागरण के लिये महाज्ञानी सन्त श्री तुलसीदास जी ने एक बार फिर से भगवान श्री राम की पवित्र कथा को देसी भाषा में लिपिबद्ध किया। सन्त तुलसीदास जी ने अपने द्वारा लिखित भगवान श्री राम की कल्याणकारी कथा से परिपूर्ण इस ग्रंथ का नाम रामचरितमानस[ङ] रखा। सामान्य रूप से रामचरितमानस को तुलसी रामायण के नाम से जाना जाता है।
कालान्तर में भगवान श्री
राम की कथा को अनेक विद्वानों ने अपने अपने बुद्धि, ज्ञान तथा मतानुसार अनेक बार लिखा है। इस तरह से अनेकों रामायणों की रचनाएँ हुई हैं।

रामायण भाग 35

Loading...

रामायण भाग 36

Loading...

रामायण भाग 37

Loading...

रामायण भाग 38

Loading...

रामायण भाग 39

Loading...

रामायण भाग 40

Loading...

रामायण भाग 41

Loading...

रामायण भाग 42

Loading...

रामायण भाग 43

Loading...

रामायण भाग 44

Loading...

रामायण भाग 45

Loading...

रामायण भाग 46

Loading...

रामायण भाग 47

Loading...

रामायण भाग 48

Loading...

रामायण भाग 49

Loading...

रामायण भाग 50

Loading...

रामायण भाग 51

Loading...

रामायण भाग 52

Loading...

रामायण भाग 53

Loading...

रामायण भाग 54

Loading...

रामायण भाग 55

Loading...

रामायण भाग 56

Loading...

रामायण भाग 57

Loading...

रामायण भाग 58

Loading...

रामायण भाग 59

Loading...

रामायण भाग 60

Loading...

रामायण भाग 61

Loading...

रामायण भाग 62

Loading...

रामायण भाग 63

Loading...

रामायण भाग 64

Loading...

रामायण भाग 65

Loading...

रामायण भाग 66

Loading...

रामायण भाग 67

Loading...

रामायण भाग 68

Loading...

रामायण भाग 69

Loading...

रामायण भाग 70

Loading...

रामायण भाग 71

Loading...

रामायण भाग 72

Loading...

रामायण भाग 73

Loading...

रामायण भाग 74

Loading...

रामायण भाग 75

Loading...

रामायण भाग 76

Loading...

रामायण भाग 77

Loading...

रामायण भाग 78

Loading...